कैसा है ये प्रेम जाने

चंद्रमा सा मद्धम कभी कभी सूर्य सा उबलता कैसा है ये प्रेम जाने मालूम ही न चलता स्निग्धता में लिपटे कुछ संस्मरण हृदय में घेरे हैं अब भी मुझको रखे हुए संशय में क्या भूल जाऊँ तुमको तुम जैसे भूल…

मुहब्बत को तुमसे छुपाया नहीं था

कुछ डायरी से☺☺ तुम्हीं को हरेक लफ़्ज़ में लिख रही थी मुहब्बत को तुमसे छुपाया नहीं था बिखरे न यूँ टूटकर ख़्वाब मेरे यूँ ही ख़्वाब कोई सजाया नहीं था रक्खे हुए हैं सभी ख़त तुम्हारे कोई ख़त भी हमने…

Top 100+ Roamntic Shayari in Hindi – Love Shayari, New Shayari

तेरी सांसो की तलबगार हूँ…! नफ़्स है तू मेरे एहसासों की,  ****Romantic Shayari in Hindi**** 1.ओढ़ ली है तेरी यादों की पैरहन     अब रूह को कफ़न ज़रूरी नहीं.             #Mahek ★ 2.खुद को…

बस तेरी याद आती है….!!

ब्रम्ह मुहूर्त में पक्षियों के कलरव सड़को की गुमगश्त खामोशी ठण्डी-ठण्डी सी पुरवाई जब तन को छूकर जाती है बस तेरी याद आती है….!! एक हाथ चाय की प्याली दूजे हाथ वो लट घुंघराली दिल मे उठती टीस प्यारी जब…

टूटा हुआ राब्ता

टूटा हुआ राब्ता आया था वो इक भीड़ को हवा देकर ठहरा था विश्वास का वो पता देकर चल पड़ा था सिलसिला-ए-वास्ता मुड़ गया किस मोड़ पर दगा देकर चाहतों की कश्ती ,पतवार हाथ उसके डुबोया यार मझधार में सज़ा…

Posts navigation