दीप जला लीजिये

  दीप जला लीजिये ^^^^^^^^^^^^^^^ अमावस्या रात हो, अंधेरा मिटा दीजिये। सूर्य के ही दूत सब, दीप सजा लीजिये। दीप जला लीजिये वह पूर्ण है ,पूर्ण वैभव, पूर्णता का राज्य है। अपूर्णता के द्वार पर, वह नृप पहरेदार है। हम…

बहनें..!!

कब तक बंधन और सुरक्षा के घेरे में बहनों को रख्खोगे.. बेलन हाथ से लेकर कब बंदूक हाथ में दे दोगे … कब तक आरक्षण के बल पर इन को आगे ले जाओगे कब तक राखी के बल पर इनको…

बदल_गए_हैं_हम__l

क्या हो गई है हमारे जिंदगी में कितना बदल गए हैं हम..!! जितने इंसानों की आवाज सुनते थे उतने इलेक्ट्रॉनिक्स आवाजें सुनने लगे हैं हम..!! #या_फिर_म्यूजिक_कहिए_साहब खाते थे मां के हाथ का खाना तो कितनी खुशी मिलती थी..!! अब जंक…

अन्जान

अन्जान…… जनवरी की सर्द रात थी और घर में इस कदर सन्नाटा पसरा था मानो सांसें लेने की भी आवाज न सुनाई दे रही हो।रिया घर में बिलकुल अकेली थी। घडी़ की सुइयों ने टिक टिक करके 9बजा दिये थे…

सुनो लौट आओ ना

मुझे मत रुलाओ ना सुनो लौट आओ ना यादो का बोझ बहुत। बढ़ रहा है दिल पर आकर कम कर दो ना सुनो लौट आओ ना। वो आपसे बाते करना वो आपकी पहली मुलाकात बहुत सताति है आपकी यादे। सुनो…

Posts navigation